केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग के मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार के दिन बताया की US स्थित EV के निर्माता अब 2021 की शुरुआत में टेस्ला का भारत में संचालन शुरू करेंगे।

इंडियन एक्सप्रेस आइडिया एक्सचेंज कार्यक्रम के अंतर्गत उन्होंने बताया कि टेस्ला पहले बिक्री के साथ संचालन शुरू करेगी और फिर उसके बाद देश में उसकी कैसी प्रतिक्रिया आती है उसी आधार पर बाद में विधानसभा तथा इसके विनिर्माण की संभावनाओं को देखा जायेगा।

उस समय टेस्ला के बारे में सारे शहर में बातें हो रही थी जब इस कंपनी के सीईओ एलोन मस्क ने अक्टूबर महीने में एक बार फिर से ट्वीट किया था कि इलेक्ट्रिक कार निर्माता भारत में अपने वैश्विक पदचिह्न को फैलाने के लिए तैयार हैं।

ET ऑटो की एक रिपोर्ट के अनुसार, टेस्ला 4 वर्षों के बाद अगले महीने से फिर से बुकिंग शुरू करने के लिए तैयार है। इससे पूर्व भारत में वर्ष 2016 में इसकी आखिरी बार बुकिंग की गई थी। इसकी डिलीवरी साल के अंत में ही शुरू होने की उम्मीद की जा रही है।

2021 में भारत के लिए Tesla ने कमर कस ली

वर्ष 2016 में, टेस्ला निर्माता ने टेस्ला मॉडल 3 की बुकिंग करने के लिए भारत में संभावित ग्राहकों से $ 1000 टोकन राशि इकट्ठा कर ली थी। परन्तु सीईओ एलोन मस्क ने बाद में डिलीवरी में देरी होने का कारण एफडीआई मानदंडों को ही बताया था।

हालांकि टेस्ला इतने समय तक भारत से दूर रहा, लेकिन कंपनी शंघाई, चीन में एक कारखाने का संचालन करती है।  यह सुविधा टेस्ला के मॉडल 3 के लिए असेंबली लाइन के रूप में काम करती है।  कारखाने के लिए साइट की ग्रेडिंग के ठीक 12 महीने बाद कारखाने से पहली कारों की डिलीवरी की गई थी।

आपको बता दें कि टेस्ला $ 659 बिलियन के बाजार पूंजीकरण के साथ अब दुनिया के अग्रणी कार निर्माताओं में से एक है।  यह टोयोटा के बाजार पूंजीकरण के $ 215 बिलियन से आगे है।  2019 की चौथी तिमाही में, टेस्ला का राजस्व 7.38 बिलियन डॉलर था।  यहां तक ​​कि महामारी के कारण, एलोन मस्क की फर्म ने तेजी से बढ़ना बंद नहीं किया। आखिरी तिमाही में, टेस्ला ने $ 8.77 बिलियन का राजस्व दिया। हाल ही में, टेस्ला को एसएंडपी 500 इंडेक्स में जोड़ा गया था।  हर वर्ष, फर्म के शेयरों में 669% का उछाल आया है।

पूर्व में ही जैसी घोषणा कर दी गई थी कि, टेस्ला मॉडल 3 भारत में उतारी जाने वाली पहली कार होगी और इस प्रीमियम पेशकश की कीमत कहीं-कहीं पर तो 60-70 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) के बीच होने की भी संभावना है। टेस्ला द्वारा देश के किसी भी डीलर के साथ साझेदारी करने की अधिक उम्मीद नहीं लग रही है और वे भारत में एक ही बिजनेस मॉडल से लगे रहेंगे, कारों को सीधे बेचेंगे और देश में अपनी डिजिटल बिक्री को बढ़ावा भी देंगे।

हालाँकि टेस्ला अपनी भारत में स्थापना करने की अपनी योजना और तैयारी को लेकर अधिक मुखर नहीं है, परन्तु इस साल हुई घटनायें विश्व के सर्वाधिक बड़े ऑटो बाजारों में से एक में ऑटोमेकर की उत्सुकता को प्रदर्शित के लिए पर्याप्त हैं। सितंबर महीने में फिर से टेस्ला ने कर्नाटक सरकार के साथ मिलकर एक अनुसंधान सेवा में इन्वेस्टमेंट करने हेतु बातचीत की। संभवतः यह बातचीत बेंगलुरु में की गई थी।

Write A Comment